बेव्यू प्रोजेक्ट्स के महाप्रबंधक राजीव अरोड़ा ने बताया कि दुनिया भर की फिल्म सिटी का अध्ययन कर उत्तर प्रदेश में नई फिल्म सिटी की अवधारण तैयार की गई है। फिल्म सिटी में प्रदेश और देश ही नहीं बल्कि विदेशी लोकेशन के भी सेट लगाए जाएंगे।

यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में बनने जा रही प्रदेश ही पहली अंतरराष्ट्रीय फिल्म सिटी में एक साथ 30 से अधिक फिल्मों की शूटिंग हो सकेगी। इसके लिए प्रदेश व देश के साथ विदेशों की प्रमुख लोकेशन से संबंधित सेट तैयार किए जाएंगे। विकासकर्ता कंपनी ने लखनऊ में आयोजित ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में परियोजना से संबंधित प्रस्तुतिकरण सीएम योगी आदित्यनाथ के समक्ष दिया।


फिल्म सिटी में अयोध्या का राम मंदिर, उत्तराखंड के चार धामों में शामिल केदारनाथ धाम समेत देश के प्रमुख धार्मिक स्थलों के साथ प्रमुख लोकेशन के सेट होंगे। इसके अलावा लंदन, कनाडा, स्विट्जरलैंड जैसी प्राइम लोकेशन के भी सेट होंगे।

यीडा सिटी के सेक्टर-21 में 1000 एकड़ जमीन फिल्म सिटी के लिए आरक्षित की गई है। इसमें से प्रथम चरण में 230 एकड़ में अंतरराष्ट्रीय फिल्म सिटी बनने जा रही है। इसकी विकासकर्ता कंपनी मेसर्स बेव्यू प्रोजेक्ट्स और भूटानी ग्रुप ने फिल्म सिटी को बसाने की अवधारण तैयार कर ली है। इसे शासन से भी मंजूरी मिल गई है।

लखनऊ में चल रही तीन दिवसीय (19-21 फरवरी तक) जीबीसी में फिल्म सिटी का स्टॉल लगाया गया है। यहां फिल्म सिटी की झलक दिखने को मिल रही है। विकासकर्ता कंपनी द्वारा सीएम योगी और शासन के उच्चाधिकारियों के सामने दिए गए प्रस्तुतिकरण के मुताबिक विश्व स्तरीय सुविधाओं से लैश इस अंतरराष्ट्रीय फिल्म सिटी में एक साथ 30 से अधिक फिल्मों की शूटिंग हो सकेगी।

बेव्यू प्रोजेक्ट्स के महाप्रबंधक राजीव अरोड़ा ने बताया कि दुनिया भर की फिल्म सिटी का अध्ययन कर उत्तर प्रदेश में नई फिल्म सिटी की अवधारण तैयार की गई है। फिल्म सिटी में प्रदेश और देश ही नहीं बल्कि विदेशी लोकेशन के भी सेट लगाए जाएंगे। फिल्म सिटी बनने के बाद यह उससे भी बेहतर होगी और यहां आने वालों को विश्व स्तरीय सुविधाएं मिलेंगी।

जीबीसी के लिए बनाए गए फिल्म सिटी के स्टॉल में फिल्म सिटी की खूबियों को दिखाने का प्रयास किया गया है। फिल्म सिटी में थीम पार्क, मनोरंजन पार्क, स्टूडियो, गोल्फ क्लब, प्रमुख मंदिर समेत कई तरह के स्थायी सेट लगाए जाएंगे।

Azra News

Azra News

Next Story