मोनालिसा साल 2020 में कांग्रेस छोड़कर टीएमसी में शामिल हुईं थी। टीएमसी पार्षद का आरोप है कि उन्हें नए ऑफिस के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई और पुराना ऑफिस होने के बावजूद नया ऑफिस खोला गया।

तृणमूल कांग्रेस की एक पार्षद बीते छह दिनों से अपनी ही पार्टी के एक नेता के खिलाफ भूख हड़ताल कर रही हैं। टीएमसी की महिला नेता का आरोप है कि उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा है और उनके इलाके में एक अन्य टीएमसी नेता ने अपना कार्यालय खोल लिया है। टीएमसी नेतृत्व की तरफ से अभी तक इस मामले पर कोई बयान नहीं दिया गया है।

टीएमसी पार्षद कर रहीं भूख हड़ताल

कोलकाता म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के वार्ड 49 से पार्षद मोनालिसा बनर्जी बीते छह दिनों से अपने कार्यालय के बाहर भूख हड़ताल पर बैठी हैं। मोनालिसा बनर्जी का आरोप है कि उनकी ही पार्टी के एक अन्य दबंग नेता देबाशीष बनर्जी ने उनके इलाके में अपना ऑफिस खोल लिया है। मोनालिसा साल 2020 में कांग्रेस छोड़कर टीएमसी में शामिल हुईं थी। टीएमसी पार्षद का आरोप है कि उन्हें नए ऑफिस के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई और पुराना ऑफिस होने के बावजूद नया ऑफिस खोला गया।

टीएमसी सांसद ने टिप्पणी करने से किया इनकार

कोलकाता का वार्ड 49 कोलकाता उत्तर लोकसभा सीट के तहत आता है। यहां से टीएमसी ने वरिष्ठ नेता और मौजूदा सांसद सुदीप बंदोपाध्याय को अपना उम्मीदवार बनाया है। सुदीप बंदोपाध्याय के ऑफिस के नजदीक भी बीते हफ्ते मोनालिसा बनर्जी ने धरना प्रदर्शन किया था। दरअसल मोनालिसा बनर्जी के ऑफिस के बाहर सीसीटीवी कैमरा लगा दिया गया है, जिसका मोनालिसा विरोध कर रही हैं। मोनालिसा बनर्जी का कहना है कि उनके तमाम विरोध के बावजूद उनके क्षेत्र में नया ऑफिस खोल दिया गया और जब तक उनकी समस्या का समाधान नहीं हो जाता, तब तक उनकी भूख हड़ताल जारी रहेगी। सुदीप बंदोपाध्याय ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। बंदोपाध्याय ने कहा कि 'मुझे नहीं पता था कि कोई भूख हड़ताल कर रहा है। मैंने आरोप सुने हैं, लेकिन ये झूठे आरोप हैं। इस मामले में पार्टी नेतृत्व ही टिप्पणी कर सकता है।'

Azra News

Azra News

Next Story