मांगों को लेकर बड़ौदा यूपी बैंक यूनियन ने की हड़ताल

मांगों को लेकर बड़ौदा यूपी बैंक यूनियन ने की हड़ताल

- मांगे पूरी न होने पर अनिश्चितकालीन हड़ताल की दी चेतावनी

फोटो परिचय- बैंक परिसर में हड़ताल करते यूनियन के पदाधिकारी।

मो.जर्रेयाब खान अजरा न्यूज़ फतेहपुर। बड़ौदा यूपी बैंक प्रबंधन की संस्था विरोधी नीतियों, भारत सरकार व रिजर्व बैंक द्वारा प्रदत्त आदेशों के प्रत्यक्ष अवहेलना, प्रायोजक बैंक अधिकारियों के अनुचित दबाव में प्रबंधन द्वारा संस्था व कार्मिकों के हितों के विरूद्ध लगातार किए जा रहे फैसले से क्षुब्ध होकर मंगलवार को बड़ौदा यूपी बैंक में कार्यरत अधिकारियों व कर्मचारियों के सभी नौ संगठनों ने ज्वाइंट फोरम आफ बड़ौदा यूपी बैंक यूनियन के बैनर तले आईटीआई रोड स्थित बड़ौदा यूपी बैंक शाखा में की। हड़ताली कर्मचारियों ने चेतावनी दिया कि यदि मांगे पूरी न हुई तो संगठन अनिश्चितकालीन हड़ताल करने के लिए विवश हो जायेगा।

ज्वाइंट फोरम आफ बड़ौदा यूपी बैंक यूनियन के बैनर तले एक दिवसीय हड़ताल की गई। हड़ताल को संबोधित करते हुए अध्यक्ष गोपाल त्रिवेदी व संयोजक उदय सिंह मांग किया कि बीसीजी यानी बोस्टन कंसेलटिंग ग्रुप की सेवाएं तत्काल प्रभाव से समाप्त की जायें। मित्रा कमेटी आधारित मानव श्रम नीति अनुसार कार्यालय परिचारक से लेकर अधिकारी स्केल पांच तक के सभी पदों पर नई भर्ती व पदोन्नति की जाये। बैंक की 268 शाखाओं के विलय या बंदी की कार्रवाई तत्काल प्रभाव से रोकी जाये और इस संबंध में रिजर्व बैंक की गाइडलाइन के अनुसार ही कार्रवाई की जाये। नाबार्ड द्वारा चौबीस फरवरी 2015 को जारी मानव श्रम नीति के पैरा 4.8 के अनुसार बैंक में स्केल 5 तक के सभी पदों पर इसी बैंक अधिकारियों को नियुक्त किया जाये व प्रायोजक बैंक से प्रतिनियुक्ति पर आये अधिकारियों को वापस भेजा जाये। अवैधानिक रूप से संचालित तीन प्रशासनिक कार्यालय बंद किये जायें। अनफेयर लेबर प्रैक्टिस पर रोक लगाई जाये तथा श्रम कानूनों का उल्लंघन बंद किया जाये। रिक्त पदों पर दस वर्षों से लगातार काम करने वाले अस्थाई कार्मिकों की सेवाएं स्थाई की जायें। वक्ताओं ने कहा कि प्रबंधन के निर्णय संस्था व कार्मिकों के हित में नहीं है। जिससे उनमें व्यवस्था के प्रति पैदा हुआ आक्रोश बढ़ता जा रहा है। यदि कर्मियों की मांगे पूरी न की गई तो मजबूरन अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के लिए संगठन विवश हो जायेगा। इस मौके पर विवेक मिश्रा, दिनेश सिंह सेंगर, राकेश श्रीवास्तव, सिद्धार्थ मिश्रा, दीप्ति उत्तम भी मौजूद रहीं।

Azra News

Azra News

Next Story