प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज नई दिल्‍ली में भारत मंडपम में वीर बाल दिवस कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया। दिल्ली के भारत मंडपम में वीर बाल दिवस समारोह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वीर बाल दिवस भारतीयता की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने का प्रतीक है।PM मोदी ने कहा आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा है और उनसे प्रेरणा ले रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज नई दिल्‍ली में भारत मंडपम में वीर बाल दिवस कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया। दिल्ली के भारत मंडपम में 'वीर बाल दिवस' समारोह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "...'वीर बाल दिवस' भारतीयता की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने का प्रतीक है।"

Veer Bal Divas: 'आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा', वीर बाल दिवस कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज नई दिल्‍ली में भारत मंडपम में वीर बाल दिवस कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया। दिल्ली के भारत मंडपम में वीर बाल दिवस समारोह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वीर बाल दिवस भारतीयता की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने का प्रतीक है।PM मोदी ने कहा आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा है और उनसे प्रेरणा ले रहा है।

Veer Bal Divas: 'आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा', वीर बाल दिवस कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीर बाल दिवस के मौके पर बोले

एएनआई, नई दिल्ली।Veer Bal Divas : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज नई दिल्‍ली में भारत मंडपम में वीर बाल दिवस कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया। दिल्ली के भारत मंडपम में 'वीर बाल दिवस' समारोह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "...'वीर बाल दिवस' भारतीयता की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाने का प्रतीक है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा है और उनसे प्रेरणा ले रहा है। आजादी के अमृतकाल में वीर बाल दिवस के रूप में एक नया अध्याय प्रारंभ हुआ है। पिछले वर्ष 26 दिसंबर को देश ने पहली बार 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के तौर पर मनाया था तब पूरे देश में सभी ने भाव विभोर होकर साहिबजादों के वीर कथाओं को सुना था। वीर बाल दिवस भारतीयता रक्षा के लिए कुछ भी कर गुजरने के संकल्प का प्रतीक है। ये दिन हमें याद दिलाता है कि शौर्य की पराकाष्ठा के समय कम आयु मायने नहीं रखती ।"

साल 2022 में आज के दिन पहली बार मना था 'वीर बाल दिवस'

पीएम ने कहा, "पिछले साल देश ने पहली बार 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के तौर पर मनाया था। तब पूरे देश में सभी ने भाव विभोर होकर साहिबजादों की वीर गाथाओं को सुना था। वीर बाल दिवस भारतीयता की रक्षा के लिए कुछ भी कर गुजरने के संकल्प का प्रतीक है। ये दिन हमें याद दिलाता है कि शौर्य की पराकाष्ठा के समय कम आयु मायने नहीं रखती।"

आज देश वीर साहिबजादों के अमर बलिदान को याद कर रहा है, उनसे प्रेरणा ले रहा है। आजादी के अमृतकाल में 'वीर बाल दिवस' के रूप में एक नया अध्याय प्रारंभ हुआ है।

Azra News

Azra News

Next Story