कोहरे के कारण ट्रेन और हवाई ट्रैफिक बुरी तरह प्रभावित हुआ है। वंदे भारत एक्सप्रेस समेत कई सुपरफास्ट ट्रेन देरी से अपने ठिकाने पर पहुंच रही हैं। कोहरे ने वाराणसी-नई दिल्ली वंदे भारत की रफ्तार को भी ब्रेक लगाए हैं।

तमाम तकनीकी बदलाव के बाद भी फिलहाल रेलवे के पास कोहरे का काट नहीं है। पिछले तीन चार दिनों से लंबी दूरी की ट्रेनों पर कोहरे का इफेक्ट इतना ज्यादा हुआ है कि सुपर फास्ट ट्रेन वंदे भारत, शताब्दी, तेजस, राजधानी भी निर्धारित समय से घंटों देरी से पहुंच रही हैं। वाराणसी-दिल्ली वंदे भारत 14 घंटा 42 मिनट की देरी से पहुंची। गुरुवार को 26 ट्रेनें दिल्ली के अलग-अलग स्टेशनों पर अपने निर्धारित समय से देरी से पहुंची। रेलवे की तरफ से जारी सूचना के अनुसार पूरी-नई दिल्ली 6 घंटे, कानपुर-नई दिल्ली 3 घंटे, आजमगढ़-दिल्ली जन कैफियत एक्सप्रेस साढ़े नौ घंटे, हावड़ा-नई दिल्ली राजधानी ढाई घंटे, डिब्रूगढ़ राजधानी ढाई घंटे, सियालदाह राजधानी दो घंटे और जम्मू तवी-नई दिल्ली राजधानी ढाई घंटे देरी से पहुंची।

एक दिन पहले बुधवार को भी लगभग 25 ट्रेनें प्रभावित रही थीं और घंटों देरी से दिल्ली पहुंची थीं। एक्सपर्ट का कहना है कि उन ट्रेनों में ज्यादा दिक्कत हो रही हैं जिनमें पेंट्री कोच नहीं है। लोगों को खाने-पीने का सामान नहीं मिलता है। गुरुवार को 6 ट्रेनें कैंसिल की गईं। इनमें वंदे भारत भी है। 28 दिसंबर को दिल्ली से चलकर वाराणसी जाने वाली वंदे भारत को कैंसल कर दिया गया। आज वाराणसी से दिल्ली आने वाली वंदे भारत भी कैंसिल है। यही नहीं, 28 दिसंबर को वाराणसी से दिल्ली आने वाली वंदे भारत का समय में बदलाव किया गया। जो ट्रेन सुबह 6 बजे खुलती है उसे 15 घंटा 30 मिनट की देरी से 21 बजकर 30 मिनट पर खोला गया, जो 14 घंटा 42 मिनट की देरी से दिल्ली पहुंची। यह ट्रेन 27 दिसंबर को भी दिल्ली लेट पहुंची थी।

एयर ट्रैफिक पर भी असर

इसी प्रकार लखनऊ-नई दिल्ली स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस और नई दिल्ली-लखनऊ स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस को आज कैंसल कर दिया गया है। इसके अलावा लखनऊ से नई दिल्ली और नई दिल्ली से लखनऊ जाने वाली तेजस ट्रेन भी 28 दिसंबर को कैंसल रही। जिस प्रकार मौसम की भविष्यवाणी की गई है, उसके अनुसार अगले कुछ दिनों तक इसका प्रभाव जारी रह सकता है। दिल्ली में कोहरे का असर आईजीआई एयरपोर्ट पर ही पड़ रहा है। एयरपोर्ट सूत्रों के मुताबिक कैट-3 की ट्रेनिंग के अभाव में पिछले 54 घंटे के अंदर 58 फ्लाइट्स को डायवर्ट करना पड़ा। इनमें से 50 फ्लाइट्स के कैप्टन को कोहरे में फ्लाइट लैंड कराने की ट्रेनिंग ही नहीं दी गई है। डायवर्ट होने वालीं सबसे अधिक फ्लाइट्स इंडिगो एयरलाइंस की हैं। वहीं, दूसरे नंबर पर स्पाइसजेट और एयर इंडिया की हैं। अन्य एयरलाइंस की भी यही हालत है।

एयरपोर्ट सूत्रों के मुताबिक 25 दिसंबर की रात 12:00 बजे से लेकर 28 दिसंबर की सुबह 6:00 बजे तक कुल 58 फ्लाइट्स डायवर्ट हुईं। इनमें इंडिगो की 13, स्पाइसजेट की 10, एयर इंडिया की 10, विस्तारा की 5, अकासा की 3 और अन्य एयरलाइंस की फ्लाइट्स रहीं। सूत्रों के मुताबिक कोहरे में विमान को नहीं उतार पाने की ट्रेनिंग नहीं होने की वजह से फ्लाइट्स के कैप्टन दिल्ली एयरपोर्ट की बजाय जयपुर, अहमदाबाद, चंडीगढ़, लखनऊ समेत अन्य एयरपोर्ट पर विमान उतारते हैं। चंद घंटे का सफर तय करने में लोगों को कई घंटे में विमान या होटल में ठहरकर गुजराना पड़ रहा है। ऐसे में यात्रियों को काफी दिक्कत हो रही है।

देरी से चल रही हैं ये ट्रेन

इस बीच रेलवे ने देरी से चल रही ट्रेनों की एक लिस्ट जारी की है। इसके मुताबिक मुंबई-अमृतसर एक्सप्रेस 5.11 घंटे की देरी से चल रही है। इसी तरह फरक्का एक्सप्रेस 2.36 घंटे, हिमाचल एक्सप्रेस 2.27 घंटे, ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस 3.28 घंटे और उधमपुर-दिल्ली सराय रोहिल्ला एसी एसएफ एक्सप्रेस 3.28 घंटे की देरी से चल रही है। लखनऊ मेल 1.22 घंटे, दानापुर-आनंद विहार टर्मिनल जन साधारण एक्सप्रेस 1.42 घंटे, रक्सौल-आनंद विहार सद्भावना एक्सप्रेस 1.07 घंटे, जम्मू मेल 1.15 घंटे, पद्मावत एक्सप्रेस 1.41 एक्सप्रेस और काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस 1.35 घंटे की देरी से चल रही हैं।

Azra News

Azra News

Next Story