आरक्षण नहीं तो वोट नहीं के नारे लगा किया प्रदर्शन

आरक्षण नहीं तो वोट नहीं के नारे लगा किया प्रदर्शन

- भाट जाति को एसटी श्रेणी में शामिल कराकर आरक्षण दिलाने की मांग

फोटो परिचय- केंद्रीय राज्यमंत्री को ज्ञापन देने जाते भाट समाज के लोग।

मो. ज़र्रेयाब खान अजरा न्यूज फतेहपुर। अखिल भारतीय भाट समाज एकता मंच सेवा संगठन के पदाधिकारियों ने आरक्षण नहीं तो वोट नहीं के नारे लगाकर प्रदर्शन किया तत्पश्चात जिले की सांसद एवं केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति को ज्ञापन सौंपकर भाट जाति को एसटी श्रेणी में शामिल कराकर आरक्षण दिलाए जाने की मांग की।

संगठन के अध्यक्ष पवनेंद्र कुमार की अगुवाई में पदाधिकारी केंद्रीय मंत्री के आवास पहुंचे जहां आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन किया तत्पश्चात केंद्रीय मंत्री को संबोधित ज्ञापन उनके प्रतिनिधि को सौंपकर बताया कि वह सभी भाट समाज के लोग हैं जो मूलतः जनपद के मूल निवासी हैं। बताया कि उनके समाज के उपेंद्र का जन्म सन 1999 में व पिता का जन्म 1958 में हुआ था। सभी लोक मूलतः स्थाई निवासी हैं। क्रिमिनल एक्ट इंक्वायरी कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार देश की आजादी के बाद से सन 1950 में पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू द्वारा भाट जाति को क्रिमिनल ट्राइब्स से हटाकर विमुक्त जाति के घुमंतू जनजाति में रख दिया था जो अनुसूचित जनजाति के रूप में मान्य है लेकिन पूर्व से वर्तमान तक भाट जाति को आरक्षण नहीं दिया गया और न ही अभी तक भाट जाति को अनुसूचित जनजनति में शामिल किया गया। मांग किया कि जाति भाट को जिले में रेलवे भर्ती 2024 से पहले अनुसूचित जनजाति में वर्गीकृत कराया जाए व अनुसूचित जनजाति का जाति प्रमाण पत्र जारी कराया जाए अन्यथा की स्थिति मंे आरक्षण नहीं तो वोट नहीं के तहत जिले की भाट जाति सन 2024 का लोकसभा चुनाव का पूर्ण बहिष्कार करेगी। संपूर्ण जाति धर्म परिवर्तन करके मुस्लिम धर्म अपनाने को मजबूर होगी। जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी केंद्र व प्रदेश सरकार के साथ-साथ शासन-प्रशासन की होगी। इस मौके पर नेकेलाल, शिवनेंद्र भाट, पुरूषोत्तम भाट, कुंदन सिंह भाट, फूल सिंह भी मौजूद रहे।

Azra News

Azra News

Next Story