जहानाबाद में विजय दिवस मनायेगा भूतपूर्व सैनिक संगठन

फतेहपुर। भूतपूर्व सैनिक उत्थान समिति के अध्यक्ष विद्या भूषण तिवारी व महिला अध्यक्ष जागृति तिवारी ने संयुक्त रूप से बताया कि 16 दिसंबर को जब देश सेना के पराक्रम का 53 वां विजय दिवस मना रहा होगा उसी दिन संगठन जहानाबाद में भी जोर-शोर से विजय दिवस मनायेगा। जिसकी सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

अध्यक्ष श्री तिवारी व महिला अध्यक्ष ने बताया कि वर्ष 1971 को भारत-पाकिस्तान के 13 दिन के युद्ध के पश्चात 16 दिसंबर को पाकिस्तान सेना के लेफ्टीनेंट जनरल आमीर अब्दुल्ला खान नियाजी ने भारत के पूर्वी कमांड के जनरल आफीसर इन कमांड लेफ्टीनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा के समक्ष 93 हजार सैनिकों के साथ पराजय स्वीकार करते हुए आत्मसमर्पण किया था। जो विश्व इतिहास की सबसे बड़ी विजय थी। इस युद्ध में जनपद के गार्डस मैन सरजू प्रसाद तिवारी, सिपाही छत्रपाल सिंह एसएससी बटालियन, गार्डस मैन हनुमंत बली सिंह 8 गार्डस रेजीमेंट, गार्डस मैन छेदा सिंह 4 गार्डस रेजीमेंट, सिपाही संतोष सिंह 14 कुमाऊं रेजीमेंट ने वीरता का परिचय देते हुए अपने सर्वोच्च प्रांणों का बलिदान दिया। जनपद के ही कैप्टन आरडीएस चौहान राजपूत रेजीमेंट ने पाकिस्तान के तमाम पोस्ट नष्ट करके जनपद का मान बढ़ाया था। महिला अध्यक्ष ने कहा कि यह उन जवानों की शौर्य गाथा व शहीदों को नमन करने का दिन है।

Azra News

Azra News

Next Story